Dharamshala-खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री किशन कपूर ने कहा कि प्रदेश सरकार दिव्यांगों को समाज में विकास के समान अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार का प्रयास है कि दिव्यांगों को प्रत्येक क्षेत्र में खासकर खेलों के क्षेत्र में अपनी विशेष प्रतिभा एवं क्षमता के प्रदर्शन के पर्याप्त अवसर एवं उपयुक्त माहौल मिले।
कपूर आज धर्मशाला के सिन्थैटिक ट्रैक में 15 से 20 जनवरी तक चलने वाले वॉलीबाल के राष्ट्रीय कोंचिग शिविर का शुभारम्भ करते हुए बोल रहे थे।  इस छः दिवसीय शिविर में हिमाचल प्रदेश सहित दिल्ली, गुजरात, पंजाब, उत्तर प्रदेश तथा राजस्थान के 80 दिव्यांग बच्चे, 25 कोेच तथा 25 स्वंयसेवक संसाधन व्यक्ति भाग ले रहे हैं।
खाद्य आपूर्ति मंत्री ने कहा कि सरकार दिव्यांगजनों के कल्याण के लिए प्रभावी तरीके से सरकारी योजनाओं का कार्यान्वयन तय करेगी ताकि वे सम्मान एवं प्रतिष्ठा के साथ अपना जीवन यापन कर सकंे । उन्होंने दिव्यांग बच्चों को खेलों में बढ़चढ़ कर भाग लेने को प्रोत्साहित करने पर बल दिया ताकि वे अपनी प्रतिभा को निखार सकेें। उन्होंने कहा कि दिव्यांग बच्चे देश में ही नहीं अपितु विदेशों में भी अपना नाम चमका रहे हैं और देश का गौरव गढ़ा रहे हैं।
इस अवसर पर दिव्यांग बच्चों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। कपूर ने बच्चों द्वारा दिये गये कार्यक्रमों की प्रंशसा की तथा उन्हें सम्मानित भी किया।
    इस दौरान विशेष ऑलम्पिक भारत की राज्य उपाध्यक्ष रश्मिधर सूद ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा संस्थान द्वारा चलाए गई विभिन्न गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी।
   इस अवसर पर पूर्व विधायक संजय चौधरी, भाजपा मण्डलाध्यक्ष कै. रमेश अटवाल, जिला खेल अधिकारी संजय शर्मा, खेल निदेशक डॉ. सुनील धर्मा, राजेश शर्मा, डॉ.शमशेर राठौर, कुमुद मेहता, अजय शर्मा, प्रशांत भूषण, मुरली लाल पाठक सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, दिव्यांग बच्चे तथा उनके अविभावक उपस्थित थे।