SHIMLA,06.10.22-आज नवोदय विद्यालय कोठीपुरा में आयोजित राष्ट्रीय युवा संसद प्रतियोगिता कार्यक्रम में आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होकर युवाओं को संबोधित किया।

उन्होंने कहा राष्ट्र निर्माण में युवा शक्ति की अहम भूमिका है। मजबूत चरित्र और लक्ष्य निर्धारित करना युवाओं के लिए बेहद जरूरी है।श्री शर्मा ने कहा दुनिया भर में तेजी से हो रहे परिवर्तनों का उल्लेख करते हुए युवाओं से इन परिवर्तनों के अनुकूल होने का आग्रह किया ताकि वे खुद को उसके अनुसार तैयार कर सकें और देश को भी आगे ले जा सकें। श्री बिरला ने इस बात पर बल दिया कि जैसे-जैसे देश आगे बढ़ रहा है, युवाओं को अपनी प्रतिभा और ऊर्जा से विकास, लोकतंत्र और लोकतांत्रिक संस्थाओं को मजबूत करने में अपना योगदान देना चाहिए। उन्होंने जोर देकर कहा कि उनका हर प्रयास 'राष्ट्र प्रथम' की भावना के अनुरूप होना चाहिए। युवाओं को राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्यों का एहसास होना चाहिए और भारत को आत्मनिर्भर बनाने के बड़े लक्ष्य की दिशा में व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से कार्य करना चाहिए।श्री शर्मा ने बताया भारतीय लोकतंत्र का भविष्य वास्तव में उज्ज्वल है क्योंकि युवा, देश के मामलों, हमारे लोकतंत्र और इसकी प्रणालियों में सक्रिय भागीदार हैं। उन्होंने कहा कि युवा सकारात्मक परिवर्तन के लिए नए विचारों और प्रयोगों के साथ आगे आ रहे हैं, जो देश के लोकतांत्रिक भविष्य के लिए एक उत्साहवर्धक संकेत है।

रणधीर शर्मा ने कहा कि यह अनुभव प्रतिभागियों के लिए यादगार पल होगा जिसे वे जीवन भर संजो कर रखेंगे। अपने कुछ व्यक्तिगत अनुभव साझा करते हुए, युवाओं को सलाह दी कि वे खुद को सीमित न रखें और अपनी बातों को अमल में लाएं। सतत विकास लक्ष्यों के बारे में बात करते हुए उल्लेख किया कि इन विषयों पर ज्यादातर बौद्धिक व्यक्तियों द्वारा चर्चा की जाती है। हालांकि, वह इस बात से प्रभावित हुए कि युवाओं ने इस विषय को चर्चा के लिए उठाया।श्री शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की, जिससे विश्व स्तर पर भारत का चेहरा बदल गया है। युवाओं द्वारा सबसे अधिक चर्चा का विषय राष्ट्र निर्माण और देशभक्ति था। उन्होंने कहा कि इससे यह पता चलता है कि इन युवाओं को राष्ट्रीय युवा संसद के लिए क्यों चुना जाता है। श्री शर्मा ने युवा प्रतिभागियों से अच्छे नागरिक बनने का आग्रह किया।