धर्मशाला, 6 अक्तूबरः सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीन चौधरी ने आज दरम्मन में दशहरा उत्सव में बतौर मुख्यातिथि शिरकत की।
सरवीण ने परंपरा के अनुसार रावण, कुम्भकर्ण और मेघनाद के पुतलों के दहन की रस्म अदा करके बुराई पर अच्छाई की विजय का संदेश भी दिया। उन्होंने कहा कि पूरे देश सहित हिमाचल में भी दशहरा उत्सव हर्षाेल्लास एवं श्रद्धा भाव से मनाया जाता है। अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में मनाया जाने वाला यह पर्व हमें मर्यादा में रहकर जन कल्याण की भावना से कार्य करने की प्रेरणा देता है।
उन्होंने कहा कि मेले और त्यौहार हमें अपने पूर्वजों से विरासत में मिले हैं जिनका आयोजन पीढ़ी दर पीढ़ी चलता रहता है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी इन मूल्यवान विरासतों को संजोए रखना जरूरी है। उन्होंने कहा कि देव भूमि हिमाचल में आयोजित होने वाले सभी उत्सव का धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व है और प्रदेश के लोगों भावनाएं इनसे जुड़ी हैं। उन्होंने कहा कि उत्सवों के आयोजनों में जहाँ लोग अपना भरपूर सहयोग देते है वहीं सरकार द्वारा भी उत्सवों के सफल आयोजन को हर संभव सहायता उपलब्ध करवाई जाती है।
उन्होंने मेला कमेटी को अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि सदस्यों की कड़ी मेहनत और स्थानीय लोगों के सहयोग से दशहरे का सफलतापूर्वक आयोजन सुनिश्चित हुआ है।
इस अवसर पर दशहरा कमेटी द्वारा करवाई गई विभिन्न खेलों के विजेताओं को सरवीण ने स्मृति चिन्ह व ट्राफी देकर पुरस्कृत किया।
समाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीण चौधरी ने दशहरा मेला कमेटी दरम्मन को 31हज़ार रुपये देने की घोषणा की ।
इस अवसर पर जोगिंदर सिंह , जरासन्ध, मेला कमेटी प्रधान पवन , प्रधान घरोह तिलक शर्मा , पूर्व बीडीसी अश्विनी चौधरी, राकेश मनु , प्रधान दरम्मन अरुणा देवी , उप प्रधान विनोद कुमार ,पंचायत सदस्य बलदेव सिंह, विकास गुप्ता , रेखा देवी , शारदा देवी , पूजा देवी , जय कर्ण सिंह , मोनिका देवी , रूपेश शर्मा , कांशीराम , रवि शर्मा , रमन कुमार , चैन सिंह लम्बरदार, आकर्षण डोगरा , राजिंदर मास्टर , बिंदु राणा, योगेश गोगु , परस राम , विपिन ठाकुर ,दिले राम , कमल किशोर सहित भारी संख्या में लोग मौजूद रहे ।