ऊना, 4 अक्तूबर: मुख्य चिकित्सा अधिकारी ऊना डॉ मंजू बहल ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला में 3 नवम्बर तक छः माह से 10 वर्ष तक की आयु वर्ग के बच्चों के लिए एनीमिया मुक्त अभियान चलाया जा रहा है जिसमें शिक्षा विभाग तथा आईसीडीएस विभाग भी शामिल होंगे। अभियान के अंतर्गत आंगनबाड़ी केंद्र तथा प्राथमिक पाठशाला में बच्चों के रक्त स्तर की एनीमिया जाँच की जाएगी। सीएमओ ने बताया कि जिला स्तर पर 34 टीमें बनाई गई हैं जिनके द्वारा 60522 बच्चों की जाँच की जाएगी। इसके साथ ही जिला में चल रहे 40 एनआरएसटी केन्द्रों में भी बच्चों का रक्त स्तर को जांचा जायेगा। बच्चों में खून कि कमी पाई जाने पर उन्हें आयरन की गोलियां दी जाएंगी। इसके अलावा गंभीर रूप से खून कि कमी पाए जाने पर बच्चों को इलाज के लिए 108 एम्बुलेंस सेवा के माध्यम से चिकित्सक के पास रेफर किया जायेगा। एनएफएचएस-5 सर्वे के अनुसार 5 साल तक के 58.7 प्रतिशत बच्चों में खून की कमी पाई गई।
सीएमओ ने बताया कि एनीमिया होने पर शरीर में आयरन कि कमी हो जाती है जिसकी वजह से शरीर में कमजोरी, थकावट, सांस फूलना, हृदय गति का तेज होना, चक्कर आना, जीभ-नाखूनों एवं पलकों के अंदर सफेदी, चेहरे व पैरों पर सूजन इत्यादि जैसे लक्ष्ण हो सकते हैं। उन्होंने लोगों से अपील की है कि अभियान के अंतर्गत 06 माह से 10 वर्ष तक के बच्चों की जाँच अवश्य करवाएं ताकि गंभीर स्थिति से बचा जा सके।
-0-