ऊना, 4 अक्तूबरः जिला ऊना में एक अक्तूबर 2022 से 61,312 पात्र व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन का लाभ दिया जाएगा। यह बात ग्रामीण विकास, पंचायती राज, कृषि, मत्स्य तथा पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने आज जिला कल्याण समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही।
वीरेंद्र कंवर ने कहा कि जिला ऊना में 58,108 व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन का लाभ दिया जा रहा था तथा आज समिति ने 2870 वृद्धावस्था पेंशन, 185 विधवा पेंशन तथा 149 दिव्यांग पेंशन के नए मामलों को स्वीकृति प्रदान की है, जिसके बाद लाभार्थियों की संख्या बढ़कर 61,312 हो गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने वर्तमान कार्यकाल में बुढ़ापा पेंशन की आयुसीमा को 80 वर्ष से घटाकर 60 वर्ष किया, ताकि अधिक से अधिक व्यक्ति पेंशन का लाभ ले सकें। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिला ऊना में ही सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्रदान करने पर 30 सितंबर 2022 तक 26.82 करोड़ रुपए की धनराशि व्यय किए गए हैं।
ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार की मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत 128 बेटियों को शादी के लिए 65.28 लाख रुपए की मदद दी है, जबकि शगुन योजना के तहत 152 परिवारों को बेटी के विवाह के लिए 47.12 लाख ही आर्थिक सहायता प्रदान की है। उन्होंने कहा कि शगुन योजना के तहत सरकार 31 हजार रुपए की मदद देती हैं। वहीं बेटी है अनमोल योजना के तहत 106 बेटियों को 9.38 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी गई है तथा इस योजना के तहत 21 हजार रुपए की मदद दी जाती है।
वहीं अनुसूचित जाति विकास कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही में 12.24 करोड़ रुपए की धनराशि व्यय की गई है। जबकि वर्ष 2021-22 में 78.56 करोड़ रुपए व्यय किए गए। उन्होंने कहा कि इन जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रत्येक पात्र व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए और सभी अधिकारी इन योजनाओं का व्यापक प्रचार प्रसार करें।
बैठक में जिला परिषद अध्यक्षा नीलम कुमारी, अतिरिक्त उपायुक्त डॉ. अमित कुमार शर्मा, जिला कल्याण अधिकारी अनीता शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी आईसीडीएस सतनाम सिंह सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।