चंडीगढ़, 11.09.22- आचार्यकुल चंडीगढ़ ने आज भारत रत्न संत विनोबा भावे की 127वीं जयंती मनाई गई। सेक्टर 15 स्थित महर्षि दयानन्द बाल आश्रम में मनाई गई। आचार्यकुल संस्था के अध्यक्ष के के शारदा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस मौके पर आश्रम को दरियां भेंट की। आश्रम के बच्चों को मिठाइयाँ बांटी।
इस मौके पर के के शारदा ने विनोबा भावे के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया विनोबा भावे ने देशभर में घूम घूम कर लोगों से हजारों एकड़ भूमि दान में लेकर जरूरत मंद लोगों में बांटी। उन्होंने बोलते हुए अफसोस जाहिर किया कि विश्व की इस विभूति को सरकारों और राजनीतिक दलों ने भुला दिया। उन्होंने कहा किसी सरकार ने कोई कार्यक्रम नहीं रखा न ही प्रचार प्रसार किया। उन्होंने कहा सरकारें या राजनीतिक पार्टियां केवल उन्हीं के गुणगान करती हैं जिससे वोट मिल सके। उन्होंने कहा हमारी संस्था आचार्य विनोबा भावे के कार्यो को लोगों तक पहुंचाने में प्रयासरत रहेगी।

संस्था के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रेम विज ने संबोधित करते कहा कि विनोबा जी ने पाकिस्तान जाकर भी अमीर लोगों से भूमि लेकर जरूरत मंद किसानों में बांटी। संस्था के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नलिन आचार्य ने बताया कि विनोबा भावे ने भूमि दान के अतिरिक्त बड़ा काम डाकुओं का आत्मसमर्पण भी करवाय । उपाध्यक्ष डॉक्टर मीना शर्मा ने कहा कि संत जी का समस्त जीवन सादगी और जनसेवा में लगा दी। इस मौके पर संस्था के महासचिव तेजिंदर सिंह,सदस्य राकेश शर्मा,रमेश बल,जी एस चीमा,दीपक शर्मा,नीरज अधिकारी,नीरज शर्मा उपस्थित थे।
इस मौके पर आश्रम के संचालक नीरज कोड़ा ने आचार्य कुल द्वारा आश्रम को दरियां देने पर आभार व्यक्त किया।