ज्वालाजी 10 अगस्त 2022 : भाषा एवं संस्कृति विभाग हिमाचल प्रदेश द्वारा प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष 10-11 अगस्त, 2022 को श्रावण पूर्णिमा के पावन अवसर पर राज्य स्तरीय संस्कृत दिवस का द्विदिवसीय आयोजन श्री मां संस्कृत महाविद्यालय ज्वालामुखी में किया जा रहा है ।

कार्यक्रम के प्रथम दिवस का शुभारंभ डॉ मुरारी लाल शर्मा व्याकरण आचार्य श्री शक्ति संस्कृत कॉलेज नैना देवी एवं सहायक निदेशक भाषा संस्कृति विभाग, श्रीमती अलका कैंथला जी ने दीप प्रज्वलन कर किया । कार्यक्रम में प्रदेश भर से संस्कृत महाविद्यालयों के छात्र-छात्राओं की प्रश्नोत्तरी, निबन्ध व श्लोकोच्चारण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें लगभग 18 संस्कृत महाविद्यालयों के लगभग 120 छात्र छात्राओं ने भाग लिया । श्लोकोच्चारण प्रतियोगिता में ज्योति बाला, सनातन धर्म आदर्श संस्कृत महाविद्यालय डोहगी ऊना प्रथम स्थान पर, हिमांशु शर्मा, कुसुम शर्मा राजकीय तारिणी संस्कृत महाविद्यालय सोलन द्वितीय स्थान पर तथा सुनिधि शर्मा राजकीय संस्कृत महाविद्यालय डंगार बिलासपुर, व सक्षम राजकीय संस्कृत महाविद्यालय फागली शिमला संयुक्त रूप से तृतीय स्थान पर रहे । निबंध प्रतियोगिता में मीनाक्षी सिंग्टा राजकीय संस्कृत महाविद्यालय सोलन प्रथम स्थान पर, दीक्षा सनातन धर्म आदर्श संस्कृत महाविद्याल डोहगी ऊना दूसरे स्थान पर, रोहित शर्मा राजकीय संस्कृत महाविद्यालय सोलन व साहिल शर्मा श्री शक्ति महाविद्यालय नैना देवी बिलासपुर संयुक्तरूपसे तृतीय स्थान पर रहे ।। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में नम्रता उप्पल राजकीय संस्कृत महाविद्यालय सुंदर नगर मंडी प्रथम स्थान पर व हर्ष शर्मा राजकीय संस्कृत महाविद्यालय सोलन दूसरे स्थान पर व आर्यन शर्मा श्री लाल देवी अन्नपूर्णा संस्कृत महाविद्यालय कुल्लू तीसरे स्थान पर रहे । निर्णायक के रूप में डॉ विवेक शर्मा एवं डॉ रणजीत कुमार केंद्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला व डॉ मनोज शैल संस्कृत अध्यापक उच्च विद्यालय तथा अमनदीप संस्कृत अध्यापक राजकीय माध्यमिक पाठशाला कस्बा कोटला उपस्थित रहे । सहायक निदेशक श्रीमती कुसुम संघांईक ने अपने संबोधन में कहा कि संस्कृत भाषा को सरकार ने द्वितीय राजभाषा घोषित किया है । भाषा संस्कृति विभाग संस्कृत विभाग के उत्थान व प्रचार के लिए प्रयासरत है । इसी के चलते श्री माँ संस्कृत महाविद्यालय सभागार में दो दिवसीय संस्कृत कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है । दूसरे दिन का कार्यक्रम दो सत्रों में आयोजित किए जाएंगे । पहले सत्र में संस्कृत कवि सम्मेलन व दूसरे सत्र में संस्कृत में नाटक व सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा । अंत में उन्होंने अपने संबोधन में श्री प्रबल शर्मा प्रधानाचार्य श्री मां ज्वालामुखी महाविद्यालय का विशेष रूप से सहयोग के लिए धन्यवाद किया ।