ऊना, 22 जून - हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिशन की ओर से आज इंदिरा स्टेडियम, ऊना में वूमेल चैलेंजर वनडे ट्रॉफी का समापन हुआ। ट्रॉफी के समापन अवसर पर छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने बतौर 14 जून से शुरु हुई इस प्रतियोगिता के अंतिम दिन आज टीम ब्लू और टीम येलो के मध्य फाईनल मैच खेला गया जिसमें दोनों टीमों को संयुक्त विजेता घोषित किया गया। मैन ऑफ द सीरीज़ का खिताब शिवानी सिंह, मैन ऑफ द मेच का खिताब सोनल को दिया।
इस मौके पर अपने संबोधन में सतपाल िंसह सत्ती ने कहा कि युवाओं का खेलों के प्रति रुझान बढ़े, इसके लिए प्रदेश सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि खेलों से जुड़ी आधारभूत संरचनाओं को सुदृढ़ किया जा रहा है और युवाओं को नशाखोरी जैसी बुराई से दूर रहने के लिए प्रेरित एवं जागरुक किया जा रहा है ताकि युवा शक्ति अपनी ऊर्जा का प्रयोग सही दिशा में करके सफल जीवनयापन कर सकें। उन्होंने बताया कि इंदिरा स्टेडियम के अलावा ऊना विधानसभा क्षेत्र को पांच बड़े खेल स्टेडियम की सौगात मिली है। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत अप्पर देहलां में एक करोड़ की लागत से तैयार करके स्टेडियम जनता को समर्पित कर दिया गया है जबकि संतोषगढ़, बसदेहड़ा, जलग्रां-टब्बा और बहडाला में खेल स्टेडियमों का निर्माण कार्य प्रगति पर है जिन पर लगभग 6 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। इसके अलावा स्कूली छात्रों की सुविधा के लिए खेल सामग्री व खेलों के मैट भी वितरित किए जा रहे हैं तथा गांवों में जिम भी खोले जा रहे हैं।
सत्ती ने कहा कि यह बड़े हर्ष की बात है कि पुरुषों की भांति आज महिलाएं भी क्रिकेट की ओर आकर्षित हो रही हैं और राष्ट्र व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर रही हैं। उन्होंने बताया कि गत वर्ष दिसंबर में जयपुर में आयोजित विजय हजारे ट्रॉफी के फाईनल में तमिलनाडू की टीम को हराकर हिमाचल प्रदेश ने पहला विजय हजारे ट्रॉफी का खिताब जीतकर प्रदेश का नाम रोशन किया।
इस अवसर पर जिला क्रिकेट ऐसोसियेशन के अध्यक्ष मदन पुरी व सचिव नरेन्द्र कपिला, सतपाल सैणी, विक्रम ठाकुर, सतरुप परिहार, चरणजीत बिंद्रा, अशोक ठाकुर, राजकुमार तथा हरमेश प्रभाकर सहित अन्य उपस्थित रहे।