*पेट्रोल-डीज़ल के दाम घटाकर मोदी सरकार ने दी महंगाई से राहतः सत्ती
ऊना, 22 मईः छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने पेट्रोल, डीज़ल व रसोई गैस की कीमतों में भारी कटौती का स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया है। आज सत्ती ने कहा कि केंद्र सरकार ने टैक्स घटाकर पेट्रोल की कीमतें 9.50 रुपए, डीज़ल की कीमतें 7 रुपए तथा रसोई गैस की कीमतों में 200 रुपए की कटौती की है। इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य सरकारों से भी टैक्स में कमी लाकर पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें घटाने की अपील की है, ताकि आम आदमी को महंगाई से राहत मिल सके।
सत्ती ने कहा कि केंद्र सरकार भी अपने जन कल्याणकारी फैसलों से आम आदमी को राहत देने का प्रयास कर रही है। 125 यूनिट तक बिजली का बिल माफ किया गया है तथा किसानों के लिए बिजली की दरें घटाकर 30 पैसे प्रति यूनिट की गई हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में पानी का बिल समाप्त किया गया है, बसों में महिलाओं के लिए किराया आधार कर दिया गया है। साठ वर्ष से अधिक की आयु से अधिक सभी व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन के दायरे में लाया गया है और पेंशन की राशि भी बढ़ाई गई है। किसानों को सालाना 6000 रुपए किसान सम्मान निधि के रूप में दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह सारे फैसले आम आदमी को राहत देने के लिए हैं।
=============================
सतपाल सत्ती ने मैहतपुर-बसदेहड़ा में 108 एंबुलैंस सेवा का किया शुभारंभ
ऊना, 22 मई - छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने आज नगर परिषद मैहतपुर-बसदेहड़ा में 20 लाख रुपये से 108 एंबुलैन्स सेवा का हरी झंडी दिखाकर सुभारंभ किया।
इस अवसर पर अपने संबोधन में सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि कुछ वर्ष पूर्व केन्द्र सरकार द्वारा 108 एंबुलैंस सेवा का शुरूआत की गई थी ताकि किसी भी प्रकार की चिकित्सा सहायता, आपात स्थिति या दुर्घटना के समय पीड़ित को सुरक्षित अस्पताल तक उपचार हेतु ले जाया जा सके। उन्होंने कहा कि 108 एंबुलैंस सेवा एक हाईटैक सेवा है जिसमें फार्मासिस्ट के अलावा प्रशिक्षित स्टाफ तैनात रहता है साथ ही इसमें आधुनिक उपकरण व मशीनें भी उपलब्ध रहती हैं जिनके माध्यम से रोगी को अस्पताल तक सुरक्षित ले जाने के सुविधा प्रदान की जाती है। उन्होंने बताया कि परिवार में किसी सदस्य के अचानक बीमार हो जाने, किसी आकस्मिक आपदा या दुर्घटना के समय अस्पताल तक पहुंचने में एंबुलैंस की भूमिका बेहद अहम होती है। उन्होंने बताया कि 108 एंबुलैंस सेवा बहुत कम समय में फोन से संपर्क करने पर मौका स्थल पर उपलब्ध होती है ताकि मरीज को समय पर उपचार हेतु स्वास्थ्य संस्थान पहुंचाया जा सके।
सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं को बल प्रदान करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा अनेकों प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होने कहा कि हिमकेयर और आयुष्मान भारत जैसी स्वास्थ्य बीमा योजनाओं से जहां लाखों जरुरतमंद परिवारों को धन की कमी से ईलाज न करवा पाने की चिंता से मुक्ति मिली है तो वहीं स्वास्थ्य संस्थानों में आधारभूत ढांचों के सुदृढ़ीकरण के अलावा अन्य सुविधाओं में सुधार पर विशेष बल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में टांडा व शिमला के बाद बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए ऊना का नाम होगा। उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय अस्पताल ऊना का कायाकल्प किया जा रहा है। यहां पर न्यू ओपीडी ब्लॉक, प्रशासनिक ब्लॉक, ट्रॉमा सैन्टर का निर्माण किया जाएगा ताकि अस्पताल परिसर मे ंजिलावासियों को व्यवस्थित सेवाएं मिल सकें। उन्होंने बताया कि इसके अलावा 20 करोड़ रुपये की लागत से मातृ-शिशु अस्पताल का निर्माण अपने अंतिम चरण में है जिसे दो माह के भीतर पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।
सत्ती ने कहा कि नगर परिषद मैहतपुर बसदेहड़ा में प्रदेश सरकार के प्रयासों से विकास के नए आयाम स्थापित हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि 4.34 करोड़ से सीएचसी बसदेहड़ा के भवन का निर्माण किया जा रहा है। चार करोड़ रुपये से मैहतपुर सीवरेज का कार्य जारी है। उन्होंने कहा कि पशु-पक्षी भी मनुष्य जीवन का एक अभिन्न अंग हैं। पशु पालकों की सुविधा के लिए भी सरकार अनेकों प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि 65 लाख रुपये से बसदेहड़ा और 62 लाख से संतोषगढ़ में पशु औषधालयों का निर्माण किया जा रहा है जिसे अगामी तीन माह के भीतर पूर्ण कर लिया जा जाएगा। उन्होंने कहा कि बसदेहड़ा में 1.77 करोड़ से खेल स्टेडियम का निर्माण किया जा रहा। यह स्टेडियम इंदिरा स्टेडियम ऊना के बाद जिला का दूसरा बड़ा स्टेडियम होगा।
इस अवसर पर नगर परिषद मैहतपुर-बसदेहड़ा की अध्यक्षा अंजु बाला व उपाध्यक्ष अजय सोनी, कांगड़ा बैंक के निदेशक बलवंत ठाकुर, शहरी इकाई अध्यक्ष हरीश पराशर, पार्षद बलराम चंदेल, सोमनाथ, बनवारी लाल, रितिका भारद्वाज, दीदार सिंह, विपिन राणा, कुलविन्द्र राणा, अनिल कौशल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ मंजू बहल, एमओएच डॉ सिद्धू, बीएमओ डॉ जितेन्द्र व जिला स्वास्थ्य शिक्षक गोपाल कृष्ण सहित अन्य उपस्थित रहे।