मंडी, 22 मई । जलशक्ति, बागवानी, राजस्व एवं सैनिक कल्याण मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र की चार पंचायतों दारपा, बकारटा, रखोह व बरच्छबाड़ के निवासियों के लिए पर्याप्त मात्रा में पेयजल व बेहतर सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए 100 करोड़ रूपये की लागत से संधोल-बरच्छवाड़ सिंचाई योजना तथा 115 करोड़ रूपये की लागत से पेयजल योजना का निर्माण किया जा रहा है । यह बात महेन्द्र सिंह ठाकुर ने आज क्षेत्र के दारपा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बकारटा-दारपा का शुभारंभ करने के बाद जनसमूह को संबोधित करते हुए कही । उन्होंने कहा कि इन योजनाओं के निर्मित हो जाने से क्षेत्र के लोगों को 24 घंटे पेयजल आपूर्ति तथा खेतों के लिए सिंचाई की बेहतर सुविधा उपलब्ध हो जायेगी ।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के आशीर्वाद से गत चार वर्षों के दौरान प्रदेश में विकास की एक नई गाथा लिखी गई है । उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के निरंतर प्रयासों से आज धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र विकास की दृष्टि से प्रदेश में अग्रणी क्षेत्र बनकर ऊभरा है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश का एक समान विकास सुनिश्चित हुआ है । हिमाचल प्रदेश के निचले क्षेत्रों के किसानों व बागवानों की आर्थिकी को सुदृढ़ बनाने के लिए प्रदेश में एचपी शिवा प्रोजेक्ट की शुरूआत की गई है। जिसके माध्यम से प्रदेश के सात जिलों में बागवानी से किसानों की आथर््िाकी को बल प्रदान करने को 1825 करोड़ रूपये की धनराशि व्यय की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के निचले क्षेत्रों के लिए यह परियोजना न केवल बागवानी के नए द्वार खोल रही है, बल्कि शिक्षित बेरोजगार युवाओं के लिए घर बैठे स्वरोजगार का भी एक अहम जरिया साबित हो सकता है। उन्होंने बेरोजगार युवाओं के साथ-साथ किसानों व बागवानों से बड़े स्तर पर एचपी शिवा प्रोजेक्ट के साथ जुडऩे का आहवान किया।
उन्होंने बताया कि बरच्छबाड़ में 35 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली प्री कोंिचंग सैन्य अकादमी खोली जा रही है, जिसमें युवाओं को सैन्य, अर्ध सैन्य व पुलिस सेवा में अधिकारी बनने का प्रशिक्षण दिया जाएगा । इसके अतिरिक्त सैनिक बनने का भी प्रशिक्षण अकादमी में मिलेगा ।
महेन्द्र सिंह ठाकुर नेे बताया कि जलजीवन मिशन के तहत प्रदेश के हर घर में नल में स्वच्छ जल उपलब्ध करवाया जा रहा है तथा बताया कि प्रदेश में 7.78 लाख नल मिशन के तहत लगाए जा चुके हैं तथा इसके कार्यान्वयन में हिमाचल प्रदेश पूरे देश में अव्वल बना हुआ है, जिसके लिए प्रदेश को केन्द्र सरकार की ओर 750 करोड़ रूपये की प्रोत्साहन राशि भी प्राप्त हुई है।
उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल में आरम्भ की गई विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं और विकासात्मक कार्यक्रमों से प्रदेशवासी लाभान्वित हुए हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की किसान सम्मान निधि योजना, आयुष्मान भारत योजना, उज्ज्वला योजना आदि से प्रदेश के लाखों लोग लाभान्वित हुए हैं। इसी तरह राज्य सरकार की योजनाओं मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा, सहारा, मुख्यमंत्री हिमकेयर तथा मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना से राज्य के हर व्यक्ति को लाभ प्राप्त हुआ है।
महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार ने एक कदम आगे बढ़ते हुए महिलाओं के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में किराये में 50 प्रतिशत की छूट और घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को 125 यूनिट तक प्रतिमाह निःशुल्क बिजली देने की भी घोषणा की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में निःशुल्क पानी उपलब्ध करवाया जाएगा । उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आंगनबाडी सहायिकाओं और आशा कार्यकर्ताओं के मासिक मानदेय में वृद्धि की गई है। उन्होंने कहा कि सिलाई अध्यापिकाओं, मिड-डे-मील वर्कर्ज, जलवाहकों (शिक्षा विभाग) के मानदेय में भी वृद्धि की गई है।
उन्होंने टिककरी, गधयानी, बकारटा, सैण तथा दारपा में लोगों कीे समस्याओं को भी सुना तथा उनका मौके पर ही उनका समाधान किया ।
इस अवसर पर दारपा पंचायत प्रधान कमलेश नेगी, पूर्व जिला परिषद सदस्य विजय लक्ष्मी, बीडीसी सदस्य सुलोचना देवी, उप प्रधान मदन व राजीव, शक्ति केन्द्र प्रधान कश्मीर सिंह, एमओएच डॉ0 दिनेश, बीएमओ डॉ0 अशोक चौहान, अधिशाषी अभियन्ता जलशक्ति एलआर शर्मा, पंचायती राज संस्थान के पदाधिकारी, पार्टी कार्यकर्ता तथा विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित कई गण्यमान्य लोग मौजूद रहे।