HISAR,23.01.22-हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्सर अपने भाषणों में सवाल करते हैं कि कांग्रेस से पूछो कि सत्तर साल में क्या किया ? बाकी देश का तो कह नहीं सकता लेकिन भाखड़ा बांध बना जिससे कृषि उन्नत हुई । चंडीगढ़ बना एक नया शहर जो पंजाब हरियाणा की संयुक्त राजधानी बना हुआ है । कल कारखाने बने । उद्योग फैला , विज्ञान के संस्थान बने और बहुत कुछ बना । जैसे कहते थे कि जहां सुई नहीं बनती थी वहां जहाज बनने लगे । लेकिन इन चीज़ों या विकास का कोई जिक्र न कर यही पूछते आ रहे हैं कि सत्तर साल में क्या किया ? कभी नहीं बताते कि आपने सन् 2014 से क्या किया ?
हां , एक काम किया नाम बदलने का । जैसे गुडगाँव से गुरुग्राम बना दिया । करोड़ों रुपये लग गये कम्पनियों के साफ्ट वेयर बदलने में । इलाहाबाद को प्रयागराज बना दिया । और अनेक शहरों के नाम बदले गये । जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय पर भी टेढ़ी नजर रही पर अभी तक खैरियत है । अनेक संस्थानों के नाम बदले गये । हरियाणा में राजीव गांधी ग्राम सचिवालय के नाम बदले गये । राजस्थान में पाठ्यक्रम से नेहरू गायब किये गये । खुद नारा दिया -सबका साथ , सबका विकास । सो विकास हो रहा है ।
अब गांधी की प्रिय धुन 'अवायड विद मी' को बीटिंग रिट्रीट से हटा देने का फरमान हुआ है । साबरमती आश्रम में एक बार चरखा कातते फोटो जरूर करवाया पर उनकी सहृदयता नहीं अपनाई , उनका सद्भाव व सबके प्रति प्रेम नहीं अपनाया । गांधी को लेकर यदि साध्वी प्रज्ञा ने गोडसे को महत्त्व दिया तो कोई कार्रवाई न की । नजरअंदाज किया । यदि किसी साधु संत ने भी गांधी की बजाय गोडसे का गुणगान किया तो कोई कुछ नहीं बोला बल्कि साधु संतों को बचाने आगे आते गये खास विचारधारा के लोग । गांधी की फिल्मों के साथ 'मैंने गांधी को नहीं मारा' जैसी फिल्में भी आने लगीं क्योंकि विचारों की , अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है इस संविधान में लेकिन गोवा में साठ प्रतिशत विधायकों ने दलबदल का रिकाॅर्ड बना डाला । यह भी स्वतंत्रता ही है । नये से नया कीर्तिमान । क्या संदेश देना चाहा गांधी की प्रिय धुन को बीटिंग रिट्रीट से बाहर करके और क्या संदेश देना चाहा अमर ज्योति का विलय करके ? कहां से कहां जा रहे हैं हम ? कितना बदलाव करोगे ?
हां , सरदार पटेल की सबसे बड़ी मूर्ति बनवाई । हां , पराक्रम दिवस मना रहे हैं । ये अच्छी बातें भी हैं । पंजाब में चुनाव आये तो वीर बाल दिवस भी आया । पश्चिमी बंगाल में चुनाव आये तो रवींद्रनाथ टैगोर याद आए । बिना चुनावों के भी याद किया कीजिए वीरों को , बहादुरों और रणबांकुरों को और संस्कृति कर्मियों को । सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है कि रोहित सरदाना के कोरोना से निधन पर प्रधानमंत्री तक ने खेद जताया लेकिन कमाल खान की याद नहीं आई । बहुत कुछ है । कवि प्रदीप के गीत की धुन शामिल की गयी है -ऐ मेरे वतन के लोगो । दीदी लता मंगेशकर बीमार हैं इसे गाकर अमर बनाने वाली गायिका । लता दीदी के स्वास्थ्य की कामना ,,,दुआएं ,,,शुभकामनाएं ,,
महात्मा ठीक ही गाते थे
वैष्णव जन ते तेने रे कहिए
पीर पराई जाने रे ,,,
और
ईश्वर अल्लाह तेरे नाम
सबको सन्मति दे भगवान्
-पूर्व उपाध्यक्ष , हरियाणा ग्रंथ अकादमी ।
9416047075