SHIMLA,14.01.22-हिमाचल भारतीय जनता पार्टी के वरिश्ठ नेता एवं हिमफैड के अध्यक्ष श्री गणेष दत्त ने हिमाचल विष्वविद्यालय में अनुषासनहीनता व उदंडता के करने के कारण एन0एस0यू0आई0(कांग्रेस के छात्र संगठन) के तीन नेताओं को विष्वविद्यालय से निश्कासित करने के बाद काँग्रेस अध्यक्ष सहित अन्य नेताओं के बयान बचकाना व हिमाचल प्रदेष विष्वविद्यालय का माहौल खराब करने वाले है।

श्री गणेष दत्त ने कहा कि अच्छा होता काँग्रेस के नेता अपने संगठन के छात्र नेताओं को अनुषासन में रहने की बात करते तथा उन्हें विष्वविद्यालय में षिक्षा का वातावरण व माहौल को ठीक बनाने में सहयोग करने की बात करते लेकिन उल्टा काँग्रेस नेताओं द्वारा धरना प्रर्दषन घेराव व पुतले फूंकने की बात की जा रही है जो बहुत ही गैरज़िम्मेदाराना अनावष्यक है। सबसे चिंता का विशय यह है कि एन0एस0यू0आई0 के छात्र अपनी मांगों के विशय में बात चीत के बजाय आचार्यों से गाली गलोच पर उतर जाते हैं। जो कि अच्छी बात नहीं है।

श्री गणेष दत्त ने कहा कि पहले ही गत् वर्शाें में कोविड के कारण छात्रों के पढ़ाई में बाधा आ रही है और ऊपर से काँग्रेस के छात्र संगठन एन0एस0यू0आई0 का उदंडता का माहौल खराब करने का प्रयास निंदनीय है।

श्री गणेष दत्त ने कहा कि हिमाचल विष्वविद्यालय के वाइस चांसलर व विष्वविद्यालय प्रषासन षिक्षा के स्तर को सुधारने, माहौल को सुधारने का निरंतर प्रयास कर रहे हैं। एैसे में काँग्रेस सम्बन्धित संगठन एन0एस0यू0आई0 हो या नामपंथी संगठन एस0एफ0आई0 हो उन्हें कुलपति के अनुषासन बनाये रखने का स्वागत करना चाहिये व छात्रों पढ़ाई में मन लगाने की बात करनी चाहिये, क्योंकि कई गरीब माता-पिता कर्ज़ उठाकर अपने बच्चों को विष्वविद्यालय की पढ़ाई तक पहुंचा पाते हंै लेकिन राजनैतिक दलों के नेता उन माता-पिता-षिक्षकों के प्रयासों पर कुठाराघात करते है जिसे रोका जाना आवष्यक है। श्री गणेष दत्त ने काँग्रेस के नेताओं से कहा है कि व छात्रों को उकसाने के बजाए अनुषासन का पालन करने की बात करें और विष्वविद्यालय को लड़ाई झ्ागड़े का अखाड़ा बनाने की जगह षिक्षा का मंदिर बनाने की बात करें।