सेवा में

श्रीमान मुख्यमंत्री जी

हरियाणा सरकार

चंडीगढ़

विषय :- मेरी फसल मेरा ब्योरा को गलत समय पर खोलने व बंद करने को लेकर किसानों को परेशानी के चलते इस पोर्टल को बंद करने के लिए माँग पत्र ।

श्रीमान जी

निवेदन है की मै बड़े दु:खी मन से यह पत्र लिख रहा हूँ की जिन अधिकारियों को किसानी व खेती ज्ञान नही है वे आपकी सरकार में किसानों के लिए नीतिया बनते है जिससे किसानों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है हाल ही में अख़बार के माध्यम से पता चला की मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल 31 दिसंबर तक रबी की फसलों (गेंहू सरसों चना जौ सूरजमुखी एंव फल फूल व सब्जियों इत्यादि के पंजीकरण के लिए एक बार पुन: खोल दिया गया है मुझे यह देख ओर पढ़ कर अति दुख हुआ की इस समय पोर्टल पर जो जो फसले दी गई है उनमें से कई फसलों की बिजाई अभी होनी है बिजाई से पूर्व किस आधार पर ब्यौरा दर्ज कर सकता है किसान गेंहू की फसल कच्चे आलू व गन्ने का मुंडड़ा की फसल लेने उपरांत 26 जनवरी तक बिजाई करता है । इसी प्रकार सरसों के बाद भी कई किसान सूरजमुखी की बिजाई करते है। इसी प्रकार सूरजमुखी की फसल जनवरी के दूसरे सप्ताह से शुरू होकर फरवरी के अंत व लेट बिजाई मार्च के पहले सप्ताह तक होनी है बिना बिजाई किए तब किसान अभी से किस आधार पर अपनी फसल का ब्यौरा दर्ज करवा सकता है मुझे यह कहते हुए अतिशोकती नही होगी की आपकी सरकार ने कृषि विभाग का नाम बदलकर कृषि एंव किसान कल्याण विभाग किया गया किसानों को समझ आ चुका है की इन अधिकारियों के चलते उनका कल्याण तय है अब 31 दिसंबर को अधिकारी पोर्टल बंदकर देगे और सरकार ने फसल का ब्यौरा अनिवार्य किया हुआ है फिर किसान फसल बिजाई उपरांत अपनी फसल बेचने के लिए पोर्टल खुलवाने की माँग करेगा ओर तब किसान मजबूरीवंश आंदोलन करना पड़ेगा और फिर दोषी प्रदेश के किसानों को बताया जाएगा दूसरा शिकायत निवारण हेतू इस पोर्टल के संबंध में किसान किसे ओर कहा शिकायत करे कोई जानकारी नही इस पोर्टल के संबंध में आजतक प्रदेश मे कोई शिकायत केंद्र भी नही बनाया गया इसलिए आपसे पुन : माँग करते है की जनहित के व किसानो के फायदे मे इस पोर्टल को जल्द जल्द बंद किया जाए इससे किसानों को मड़ियों में फसल बेचने में कई गुणना नुकसान हो रहा है।