बिलासपुर 25 नवम्बर - निर्माणाधीन कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन के कार्य प्रगति एवं प्रभावितों की शिकायतों और समस्याओं के समाधान हेतु आज बचत भवन में उपायुक्त पंकज राय की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक आयोजित की गई। बैठक में विशेष रूप से झण्डूता विधानसभा क्षेत्र के विधायक जीत राम कटवाल उपस्थित रहे।
इस मौके पर विधायक ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र झण्डूता के बीच में से जा रहे निर्माणाधीन कीरतपुर नेरचौक फोरलेन की वजह से क्षतिग्रस्त हुए रिहायशी मकान, नालियां, रास्ते, बोरवेल आदि को समयबद्ध तरीके से ठीक कर स्थानीय लोगों के लिए राहत प्रदान करें।
उन्होंने कहा कि जिन रिहाइशी मकानों के आस-पास फोरलेन के निर्माण के कारण से भूस्खलन हुआ है वहां भी डंगे और दिवारें लगवाने का कार्य किया जाए।
उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग (फोरलेन) तथा निर्माण कम्पनी के अधिकारियों से आग्रह करते हुए कहा कि झण्डूता क्षेत्र से लोग बिलासपुर शहर के लिए रोजमर्रा की जरुरतों के अतिरिक्त फल, सब्जियां और दूध से बने उत्पादों को बेचने के लिए प्रतिदिन गोविंद सागर झील को पार कर बिलासपुर आते है जिन्हें फोरलेन की वजह से प्रभावित हुए रास्तों के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि बैहना जट्टां के अतिरिक्त कल्लर, मरहाईयां, कोठीं, धराडशानी में फुटओवर ब्रिज निर्मित किए जाएं ताकि जो लोग प्रतिदिन दैनिक कार्यो, नकदी फसलों व दूग्ध उत्पादों को बेचने के लिए बिलासपुर आते है उनकी समस्या का निदान हो सके। उन्होंने कहा कि रास्तों के खराब होने से किसानों और दुग्ध उत्पादकों को 30 किलोमीटर का चक्कर लगाकर बिलासपुर आना पड़ता है। जिससे उनके धन और समय की वर्बादी होती है। उन्होंने बताया कि दिहाड़ीदार लोगों के समय और धन की बचत के लिए फुटब्रिज लगाकर उन्हें राहत पहुंचाना सरकार और प्रशासन की जिम्मेदारी है।
इस अवसर पर उपायुक्त ने फोरलेन बनने के कारण आम लोगों को आ रही दिक्कतों के निदान तथा समयावधि में फुटब्रिज का निर्माण करने के लिए अधिकारियों को 3 महीने के भीतर सभी कार्यों को पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने फोरलेन निर्माण से प्रभावित हुई भगेड से डैहर की 8 किलोमीटर की सड़क की मुरम्मत करने के भी निर्देश दिए।
उन्होंने फोरलेन के कारण जिला के चारों विधानसभा क्षेत्रों में प्रभावित हुए लोगों के सभी कार्यों को त्वरित निपटाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि भविष्य में फोरलेन के प्रगति कार्य की समीक्षा करने के लिए सम्बन्धित अधिकारियों सहित मौके का निरीक्षण किया जाएगा।
कीरतपुर से नेरचौक फोरलेन की प्रगति की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने कहा कि जिला में 4 सुरंगें निकाली जा रही हैं। इसके अतिरिक्त 22 बड़े पुल निर्मित किए जा रहे हैं जिसमें से 8 का कार्य पूर्ण हो चुका है और 12 पुलों का कार्य प्रगति पर है। 15 छोटे पुल भी बनाए जा रहे है जिसमें से 5 पुलों का कार्य प्रगति पर है और 8 पुलों का कार्य पूर्ण हो चुका है।
बैठक में सहायक आयुक्त सिद्धार्थ आचार्य, एनएचएआई प्रोजेक्ट डायरेक्टर नवीन मिश्रा, एनएचएआई के मैनेजर अशोक कुमार झा, साईट इंजीनियर अमित ठाकुर, गावर कम्पनी महा प्रबंधक कर्नल पी.एस चौहान, सीनियर प्रोजेक्ट मैनेजर एस.पी.एम. गुजराल, सीगल कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर जितेंद्र सिंह, जिला राजस्व अधिकारी देवी राम सहित विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष उपस्थित रहे।