SHIMLA,21.09.21-हिमफैड के अध्यक्ष श्री गणेष दत्त ने कहा कि हिमफैड ने मण्डी मध्यस्थता एम0आई0एस0 योजना में सेब खरीद के पिछले सारे रिकार्ड तोड़ दिये हैं। अभी 31अक्तूबर तक मण्डी मध्यस्थता के अंतर्गत सेब एकत्रीकरण होगा तथा पिछले सारे रिकार्ड टूटेंगे।

श्री गणेष दत्त ने बताया कि गत वर्श में एम0आई0एस0 के सेब की कुल खरीद 18187 मैट्रिक टन हुई थी जो इस साल अभी तक 20.09.2021 तक यानी आज तक 19411 मैट्रिक टन की खरीद हो चुकी है जो एक रिकार्ड है और अभी 40 का समय दिन षेश है। श्री गणेष दत्त ने बताया कि पिछले साल इस अवधि में 6594 मैट्रिक टन सेब खरीदा गया था जो अबतक 19412 मैट्रिक टन हो गया है। इसी प्रकार पिछले वर्श इस अवधि में 188387 बैग खरीदे गये थे जो अब 554611 बैग की खरीद हो चुकी है तथा 40 दिन का समय अभी षेश है।

श्री गणेष दत्त ने बताया कि हिमाचल सरकार ने मण्डी मध्यस्थता योजना के अंतर्गत 9.50 प्रति किलो की दस से बागवानों के लिए समर्थन मूल्य तय किया है जो पिछले वर्श से 1.00रू प्रति किलो अधिक है तथा यह वृद्धि आजतक की सबसे अधिक वृद्धि है। पिछले वर्शाें में 50 प्रति किलो की वृद्धि की जाती रही है। लेकिन इस वर्श एक रूपये की वृद्धि की गयी है।

हिमफैड के अध्यक्ष ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर ने ओलावृश्टि से प्रभावित बागवानों केे हित के लिये समर्थन मूल्य को 50पै किलो की जगह 1.00प्रति किलो बढ़ाने का निर्णय लिया जो पिछले 10 वर्शों में सबसे अधिक है।

हिमफैड के अध्यक्ष ने बताया कि इस वर्श हुई ओलावृश्टि के कारण तथा अत्यधिक फसल होने के कारण एम0आई0एस0 के तहत बोरियों में आ रहें सेब की मात्रा बढ़ गयी है। जिसके कारण सेब एकत्रीकरण के सभी रिकार्ड टूट गये है।

श्री गणेष दत्त ने कहा कि मैं स्वयं तथा हमारे अधिकारी एकत्रीकरण केन्द्रों में नियमित तौर पर सेब की गुणवत्ता वजन तथा टांªस्पोर्टेषन को देख रहे हैं तथा किसी भी स्थान से षिकायत आने पर कार्यवाही कर रहे हैं। श्री गणेष दत्त ने कहा कि कुछ एकत्रीकरण केन्द्रों से ‘अन्डरवेट’ व ‘ओवर रैप्ड’ सेब लाने की सूचना मिल रही है जिनके लिए एकत्रीकरण प्रभारियों को निर्देष दिये है कि वे समय-2 पर बोरियों का वजन तोल कर व गुणवता देख लें, जिससे निलामी मंडी में सेब का उचित दाम मिल सकें। उन्होंने कहा कि एकत्रीकरण प्रभारियों को यह भी आदेष दिये हैं कि व बागवानों को सेब खरीद की पर्ची तुरन्त दें जिससे किसी को कोई परेषानी न हो।

उन्होंने बताया कि मण्डी मध्यस्थता के अंतगर्त 31 अक्तूबर तक सेब एकत्रीकरण केन्द्रों में सेब लिया जायेगा और बागवानों के सेब को लेने का अभी 40 दिन का समय बाकी है।