बिलासपुर 24 फरवरी - भाषा एवं संस्कृति विभाग बिलासपुर द्वारा स्थानीय लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए जिला भाषा एवं संस्कृति भवन के कलाकेन्द्र सभागार में स्वर्णिम हिमाचल-जिला स्तरीय लोक नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। उपायुक्त रोहित जम्वाल ने बतौर मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की। इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सनातन संस्कृति विश्व की समस्त संस्कृतियों में सबसे प्राचीनतम है। उन्होंने कहा कि लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए ऐसी प्रतियोगिताएं वर्ष में तीन या चार बार आयोजित करने के प्रयास किए जाए ताकि युवा पीढ़ी भी अपनी लोक संस्कृति से परिचित हो सके।
उन्होंने लोक संस्कृति से ओत प्रोत प्रस्तुतियों पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि बिलासपुर के लोक कलाकारों द्वारा आज भी अपनी सांस्कृतिक धरोहर को सहेज कर रखा है। उन्होंने आहवान करते हुए कहा कि भावी पीढ़ी को अपनी इन पारंपरिक विधाओं को सिखाएं ताकि युवाओं को अपनी संस्कृति का सम्वर्धन करने की प्रेरणा मिल सके।
उन्होंने कहा कि हर देश की लोक संस्कृति का एक विशेष महत्व है, भारत की सनातन संस्कृति का आज पूरे विश्व में अलग पहचान है। कोरोना काल के दौरान भारत के नमस्ते से अभिवादन करने के प्रचलन को पूरे विश्व ने अपनाया और इसके वैज्ञानिक महत्व को भी जाना।
जिला भाषा अधिकारी नीलम चंदेल ने कहा कि भाषा विभाग द्वारा लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए प्रतिवर्ष लोक नृत्य प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है। उन्होंने कहा कि बिलासपुर क्षेत्र में अनेक लोक नृत्य प्रचलित हैं। जैसे दिपावली के आसपास माला-नृत्य का आयोजन किया जाता है।
उन्होंने कहा कि लोक कलाकारों को मंच प्रदान करने के साथ ही उन्हें प्रोत्साहित करना विभाग का उद्देश्य है। इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु विभाग द्वारा समय-समय पर लोक-नृत्यों, लोकनाटयों, लोक संगीत के कार्यक्रम तथा राज्य एवं जिला स्तर पर लोक नृत्य प्रतियोगिताओं का आयोजन करवाता है। इसी कड़ी में स्वर्णिम हिमाचल शीर्षक के तहत जिला बिलासपुर में जिला स्तरीय लोक नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है।
उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर प्रथम रहने वाली टीम को राज्य स्तर पर अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलेगा।
जिला स्तरीय लोक नृत्य प्रतियोगिता जिलाभर के 18 सांस्कृतिक दलों ने भाग लिया जिसमें सांस्कृतिक दलों ने पारंपरिक परिधान और स्थानीय धुनों पर सुदंर लोकनृत्य का प्रदर्शन किया। विभिन्न सांस्कृतिक दलों की ओर से प्रस्तुत किए गए लोकनृत्य को दर्शकों ने खूब सराहा।
लोक नृत्य प्रतियोगिता में लक्ष्मी डांस ग्रुप प्रथम, महिला मण्डल दोकडू द्वितीय और महिला मण्डल साईं ब्रहमणा तीसरे स्थान पर रहा। उपायुक्त ने विजेता रहे दलों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर रेड क्राॅस सोसाईटी जिला अस्पताल शाखा की अध्यक्ष झुम्पा जम्वाल, निर्णायक मण्डल के सदस्य, साहित्यकार राम लाल पाठक, सहायक प्रोफेसर डाॅ. रवि प्रकाश, प्रवक्ता दीपक कटवाल के अतिरिक्त दर्शकगण उपस्थित रहे।