मंडी, 28 अक्तूबर : मंडी जिला में 19 साल की उम्र तक के 2 लाख 60 हजार बच्चों व किशोरों को पेट के कीड़े मारने की दवा (अल्बेंडाजोल) की खुराक खिलाई जाएगी। इनमें 5 साल तक की उम्र के 60 हजार बच्चों को अल्बेंडाजोल के साथ विटामिन-ए की खुराक भी दी जाएगी। यह जानकारी अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने आज यहां राष्ट्रªीय कृमि मुक्ति कार्यक्रम के तहत आयोजित जिला टास्क फोर्स की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।
उन्होंने कहा कि इसे लेकर 2 से 10 नवंबर तक अभियान चलाया जाएगा तथा आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बच्चों को ये खुराक देंगी। जो बच्चे खांसी-जुकाम से पीड़ित हैं उन्हें अभी ये खुराक नहीं दी जाएगी। इसके अलावा कंटेनमेंट जोन में भी अभी ये दवाई नहीं दी जाएगी। अभियान के दौरान कोविड 19 के प्रोटोकॉल का पूरा पालन किया जाएगा। इस कार्य में शिक्षा विभाग का भी सहयोग लिया जाएगा। ऑनलाईन कक्षाओं में भी इस अभियान की जानकारी दी जाएगी।
वहीं बैठक में सीएमओ डॉ. देवेंद्र शर्मा ने कहा कि बच्चों और किशोरों में कृमि संक्रमण के कारण उनका शारीरिक और दिमागी विकास बाधित होता है। जिससे कुपोषण और खून की कमी हो जाती है। उन्होंने कहा कि पेट के कीड़े मारने की दवाई अल्बेंडाजोल की खुराक नियमित अंतराल पर लेने से शरीर में पोषण का स्तर बेहतर होता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। जिससे बच्चे की कार्यक्षमता में सुधार आता है।
बैठक में चिकित्सा अधीक्षक डॉ. डीएस वर्मा, जिला स्वास्थ्य अधिकरी डॉ. दिनेश ठाकुर, जिला कार्यक्रम अधिकारी डॉ. अनुराधा शर्मा, सभी बीएमओ, जिला शिक्षा एवं सूचना अधिकारी एनआर ठाकुर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।