हिसार/चंडीगढ़, 26 अक्तूबर। प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने आदमपुर अनाज मंडी के किसान विश्राम गृह में अटल किसान-मजदूर कैंटीन का शुभारंभ किया। यह कैंटीन हरियाणा कृषि विपणन बोर्ड द्वारा शुरू की गई है, जहां किसानों और मजदूरों को मात्र 10 रुपये में भरपेट भोजन मिलेगा। हिसार जिले की यह दूसरी कैंटीन है। इससे पूर्व हांसी में भी इस प्रकार की कैंटीन खोली गई थी। आदमपुर में अटल किसान-मजदूर कैंटीन का संचालन प्रयत्न महिला कलस्टर संगठन द्वारा किया जाएगा। संगठन की महिलाओं को 25 रुपये प्रति थाली के हिसाब से अदायगी की जाएगी। इसमें से 10 रुपये ग्राहक को तथा बाकी 15 रुपये सरकार द्वारा दिए जाएंगे।

शुभारंभ अवसर पर डिप्टी सीएम ने कैंटीन में परोसे जाने वाले चार प्रकार के भोजन तथा चूरमे का भी स्वाद चखा। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आदमपुर की मंडी में कपास, बाजरा, गेहूं आदि का व्यापार होता है। अत: मंडी में आने वाले किसानों तथा मजदूरों को यहां स्वादिष्ट भोजन मात्र 10 रुपये में मिलेगा। कार्यक्रम के दौरान उपमुख्यमंत्री ने सीसवाल तथा चूली बागड़ियान की महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा तैयार किए गए विभिन्न उत्पादों की प्रदर्शनी का मुआयना किया। यहां आशा महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा सर्फ व साबून तथा एकता महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा अन्य उत्पाद प्रदर्शित किए गए थे। समूह द्वारा मास्क तथा हैंड सैनेटाईजर भी तैयार किए जाते हैं, जिनके बारे में उप-मुख्यमंत्री ने विस्तार पूर्वक जानकारी ली।

इस अवसर पर राज्यमंत्री अनूप धानक, जेजेपी के राष्ट्रीय संगठन सचिव राजेंद्र लितानी, पार्टी के जिला प्रधान रमेश गोदारा, हलका प्रधान भरत सिंह बैनिवाल, रमेश गोदारा दड़ौली, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य राजमल काजल, जेजेपी प्रवक्ता मंदीप बिश्रोई, वीरेंद्र चौधरी, होशियार सिंघरान, युवा प्रधान अमित बूरा, अभिषेक बिश्रोई, शमशेर काजल, मुंशी राम, सुभाष खासा, विक्रम सहारण, शैलेंद्र मलिक, राजेंद्र सारंगपुर, जापान सिंह गोदारा, आशीष कुंडू सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

- कोरोना महामारी की लड़ाई में अग्रोहा मेडिकल कॉलेज के पूर्व निदेशक डॉ. गोपाल सिंघल के योगदान को सदैव याद रखा जाएगा - डिप्टी सीएम

हिसार/चंडीगढ़, 26 अक्तूबर। प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने सोमवार को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज के पूर्व निदेशक डॉ. गोपाल सिंघल के आवास पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी और शोक-संतिप्त परिजनों को ढांढस बंधाया। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय डॉ. सिंघल ने कोरोना महामारी के दौर में अभूतपूर्व कार्य किया। मार्च के महीने से ही हिसार व अन्य जिलों से कोरोना संक्रमित लोगों के उपचार में न केवल अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में विभिन्न व्यवस्थाओं का जिम्मा संभाला बल्कि स्वयं भी अंतिम सांस तक चिकित्सक होने के नाते अपने धर्म का निवर्हन करते रहे। सही मायनों में वे सबसे बड़े कोरोना वॉरियर थे। उनके निधन से चिकित्सा के क्षेत्र को एक बड़ी क्षति पहुंची है। कोरोना महामारी के विरूद्ध लड़ाई में उनके योगदान को कभी नहीं भुलाया जा सकता।

दुष्यंत चौटाला ने ढ़ाणी मोहबतपुर में पूर्व युवा प्रधान रमेश बेरवाल तथा पटेल नगर में सपरा अस्पताल के संचालक डॉ. तरूण सपरा की माता श्रीमती वीना सपरा के आकस्मिक निधन पर भी शोक व्यक्त किया और उनके परिजनों को सांत्वना दी। इस अवसर पर राज्यमंत्री अनूप धानक, जिला प्रधान जेजेपी रमेश गोदारा, युवा प्रधान अमित बूरा, उकलाना हल्का प्रधान कैप्टन छाजू राम, राजमल काजल, आशीष कुंडू सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।