सोलन -दिनांक 17.10.2020
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने किया ईवीएम तथा वीवीपैट भंडारण स्थल का निरीक्षण

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सी. पालरासु ने आज सोलन के कथेड़ में निर्माणाधीन ईवीएम तथा वीवीपैट भंडारण स्थल का निरीक्षण किया। इसमें जिला पांचों विधानसभा क्षेत्रों की ईवीएम तथा वीवीपैट मशीनों का भंडारण भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार किया जाएगा।
उन्होंने जिला के सभी विधानसभा क्षेत्रों के ईवीएम तथा वीवीपैट अलग-अलग कक्ष में रखने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि प्रदेश के 11 जिलों में वेयर हाउस के निर्माण के लिए भूमि विभाग के नाम हस्तांतरित की जा चुकी है तथा 7 जिलांे में वेयरहाउस का निर्माण कार्य आरंभ किया गया है।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि इन सभी वेयरहाउस का निर्माण कार्य जून 2021 तक पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होने कहा इस कार्य के लिए 53 करोड़ रुपए की राशि उपलब्ध करवाई गई है।
इस अवसर पर उपमंडलाधिकारी सोलन अजय कुमार यादव, तहसीलदार निर्वाचन राजेंद्र शर्मा, नायब तहसीलदार जवाला दस, लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता प्रमोद आर्य तथा निर्वाचन विभाग अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

=================================

रामलीला और दशहरा के आयोजन को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश जारी
100 से अधिक लोग विभिन्न कार्यक्रमों में हो सकेंगे शामिल: उपायुक्त
सम्बन्धित नगर निकाय व पंचायत को देनी होगी पूर्व सूचना

धर्मशाला, 17 अक्तूबर: उपायुक्त राकेश कुमार प्रजापति ने आज यहां जानकारी दी कि रामलीला और दशहरा पर कार्यक्रम का आयोजन किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजनों के लिए कोरोना की मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) बना दी गई हैं।ऐसे कार्यक्रमों में शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करना होगा। आयोजन में थर्मल स्कैनिंग, सैनिटाईजर का उपयोग और मास्क पहनना अनिवार्य होगा। उन्होंने कहा कि आयोजकों को कार्यक्रम की पूर्व सूचना देनी होगी। नगर निगम क्षेत्र में नगर निगम आयुक्त, नगर परिषद् क्षेत्र में कार्यकारी अधिकारी और नगर पंचायत व पंचायत क्षेत्र में सचिव को आयोजन की पूर्व सूचना प्रस्तुत करनी होगी।

उन्होंने कहा कि जिला में अब विवाह समारोह, धार्मिक आयोजन, राजनीतिक आयोजनों, खेलकूद व अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में 100 से अधिक लोग शामिल हो सकेेंगे। उन्होंने बताया कि इस सम्बन्ध में नई एसओपी बना दी गई है। उन्होंने बताया कि ऐसे आयोजनों में हॉल या आयोजन स्थल की कुल क्षमता के 50 प्रतिशत लोगों को ही कार्यक्रम में शामिल होने की अनुमति दी जायेगी तथा हॉल में अधिकतम 200 लोग ही एकत्रित हो पायेंगे। खुले मैदान में 200 लोगों की शर्त लागू नहीं होगी। ऐसे आयोजनों में लोगों को 6 फुट की दूरी के नियम सहित मास्क लगाने व सैनिटाईजर का इस्तेमाल करना होगा तथा प्रवेशद्वार पर थर्मल स्क्ैनिंग की व्यवस्थान करनी होगी। बिना लक्षणों वाले लोग ही इन कार्यक्रमों में शामिल हो पायेंगे। ऐसे आयोजनोें वाले प्रतिष्ठानों के बाहर भीड़ से बचना होगा। उन्होंने कहा कि 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों सहित गंभीर बिमारियों से ग्रसित लोगों व बच्चों को ऐसे आयोजनों मेें शामिल होने बचना चाहिये। आयोजकों को कार्यस्थल पर सीसीटीवी कैमरों का भी प्रबंध करना होगा तथा पीने के शुद्व पानी और सैनिटाईजर का प्रबंध करना होगा। मंदिर, गुरूद्वारों, मस्जिदों में धार्मिक पुस्तकों व घंटी छूने पर प्रतिबंध रहेगा।

उन्होंने कहा कि जिला में सरकारी स्कूलों में 19 अक्तूबर से 10वीं और 12वीं की नियमित कक्षायें लगेंगी। उन्होंने कहा कि इन कक्षाओं में जो विद्यार्थी स्कूल आकर पढ़ाई करना चाहते हैं, उन्हें अभिभावकों का सहमति पत्र लेकर स्कूल आना होगा। उन्होंने कहा कि स्कूलों को कोविड-19 के बचाव को लेकर जारी निर्देशों की अनुपालना करनी होगी। सोशल डिस्टैंसिंग का ध्यान रखना होगा, मुख्यगेट पर थर्मल स्कैनिंग और सैनिटाइजर की व्यवस्था करनी होगी। यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी विद्यार्थी मास्क पहनकर स्कूल आयें। उन्होंने बताया कि इस दौरान ऑनलाइन स्टडी भी जारी रहेगी।