धर्मशाला, 17 अक्तूबर - अंतरराष्ट्रीय गरीबी उन्मूलन दिवस के मौके पर आज यहां धर्मशाला स्थित केन्द्रीय विश्वविद्यालय परिसर में एडीसी राहुल कुमार की अध्यक्षता में जिला रैडक्रास सोसाइटी और ऐजुकेयर इंडिया धर्मशाला द्वारा सैमिनार का आयोजन किया गया जिसमें जिला भर के विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया ।
इस दौरान सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीन चौधरी ने लिखित संदेश के माध्यम से इस आयोजन के लिये अपनी शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के संकट काल में भारतीय रेडक्रॉस सोसायटी दशकों से मानवता के कल्याण के लिए प्रदेश में किए जा रहे कार्य सराहनीय हैं। उन्होंने जानकारी दी कि विशेषकर गरीबी उन्मूलन और सामाजिक सुरक्षा के तहत महिला मण्डलों के सहयोग से सशक्त महिला केन्द्र स्थापित किये जा रहे हैं और स्वयं सहायता समूह गठित किए जा रहे हैं। उन्हांेने बताया कि आर्थिक गतिविधियां आरम्भ करने व आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एक रुपये की दर से एकमुश्त सहायता राशि के रूप में उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की समाज के कल्याण के लिए प्रतिबद्धता वर्तमान में भी इसी प्रकार बनी रहेगी।
सरवीण चौधरी ने अपने संदेश मंे जिला रैड क्रास सोसाइटी और ऐजुकेयर इंडिया द्वारा गरीबी उन्मूलन को ध्यान में रखते हुए अपने सेहत सेवा सहयोग अभियान में गरीबों और विशेषकर महिलाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करने की पहल और इस अभियान से बजुर्गों और ग्रामीण क्षेत्र के जरूरतमंद लोगों की सामाजिक सुरक्षा और भलाई करने के प्रयासों की सराहना की।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि एडीसी राहुल कुमार ने कहा कि हमने दोबारा सार्वजनिक गतिविधियां शुरू कर दी हैं परन्तु हमें ध्यान में रखना है कि हमें अभी भी कमजोर, गरीब और जरूरतमंद लोगों के कल्याण और सहायता के लिए काम करना जारी रखना है। ऐसा करते समय हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि कोविड-19 प्रेरित आर्थिक तनाव के कारण बीपीएल और अन्य गरीब परिवारों की श्रेणी के लोगों के लिए धर्मार्थ या सरकार की आवश्यकता के लिए संभावना बढ़ सकती है। हमें 2030 तक गरीबी उन्मूलन की दिशा में भी प्रयास करते रहना होगा। इसका मतलब यह है कि हमें नवीन विचारों और दृश्टिकोणों के माध्यम से गरीब लोगों के लिए अधिक रोजगार और आय सृजन के अवसर पैदा करने में सक्षम होना चाहिए। इससे हमें इस वर्ष के गरीबी उन्मूलन के विषय सामाजिक और पर्यावरणीय न्याय को प्राप्त करने के लिए मदद मिलेगी।
इसके उपरांत रैडक्रास और ऐजुकेयर इंडिया ने गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करने में एक प्रस्तुती दी। सचिव रैडक्रॉस ओम प्रकाश शर्मा ने संस्था की गतिविधियों पर प्रकाश डाला और कहा कि सदस्यता योगदान के माध्यम से रैडक्रास सोसाइटी के लिए अधिक धन इक्कठा करने की जरूरत है।
परियोजना निदेशक ऐजुकेयर इंडिया और रैडक्रास वालंटियर रिसोर्स पर्सन फार कपैस्टी विल्डिंग हरजीत भुल्लर ने अगले पंाच साल के एक्शन प्लान के बारे में प्रस्तुति दी।
इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम के क्षेत्रीय समन्वयक सुधीर भाटिया ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के स्किल इंडिया अभियान के तहत 40 करोड़ लोगों को 2022 तक अलग-अलग रोजगारों में कुशल बनाने के कार्यक्रमों के बारे में बताते हुए कहा कि गरीबों और नौजवानों के लिए रोजगार के बेहतर अवसर प्रदान किए जा रहे हैं।
सैमीनार में स्वास्थ्य विभाग, जिला पंचायत आफिस, जिला कल्याण कार्यालय, जिला उद्योग केन्द्र, हिमाचल प्रदेश कौशल विकास निगम, क्षेत्रीय रोजगार कार्यालय, जिला आपदा प्रबंधन, बीएमओ तियारा, सिंचाई और जन स्वास्थ्य, उच्च शिक्षा अधिकारी, तकनीकी शिक्षा अधिकारी, एनएसएस, नेहरू युवक केन्द्र, जिला युवा एवं खेल कार्यालय, कृषि विभाग, बागवानी विभाग, पशु पालन विभाग, आरसेटी, पंजाब नैशनल बैंक, समाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, केन्द्रीय विश्वविद्यालय, पत्रकारिता जनसंचार एवं नवमीडिया विभाग, अर्थशास्त्र और सार्वजनिक नीति विभाग, केन्द्रीय विश्वविद्यालय बिजनेस स्कूल, उद्ययमिता एवं नवोन्मेश केन्द्र के अधिकारी उपस्थित थे।