ऊना, 13 अगस्त: आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आज स्थानीय बचत भवन में अद्वेता फाउंडेशन द्वारा छात्रवृति वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। इस मौके पर उन्होंने संस्था की ओर से 80 विद्यार्थियों को उनकी शिक्षा के लिए 96 हजार रूपये की सहायता राशि वितरित की। इस दौरान उन्होने सभी को 76वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए हर घर तिरंगा अभियान में बढ़-चढ़कर अपनी सहभागिता दर्ज करने का आहवान भी किया।
इस अवसर पर अपने संबोधन में सतपाल सत्ती ने कहा कि गरीब व बेसहारा बच्चों को पढ़ाई में मदद के लिए जहां एक ओर सरकार व जिला प्रशासन द्वारा अनेकों योजनाएं चलाई गई हैं तो वहीं दूसरी ओर कई स्वयं सेवी संस्थाओं द्वारा ऐसे बच्चों की सहायता के लिए आगे आना भी एक प्रशंसनीय कदम है। उन्होंने अद्वेता संस्था द्वारा इन बच्चों में से एक बच्चे को डॉक्टर तथा एक को इंजीनियर बनने तक आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्णय व प्रयास की सराहना भी की।
सत्ती ने कहा कि अक्सर देखा गया है कि घर के मुखिया का निधन हो जाने पर या किसी कारणवश लाचार हो जाने पर बच्चों की शिक्षा पर सीधा दुष्प्रभाव पड़ता है। अधिकतर मामलों में ऐसे बच्चे शिक्षा से पूर्णतः वंचित भी रह जाते है। यदि इन बच्चों को शिक्षा के लिए आर्थिक सहायता मिल जाए तो उनका जीवन संवर सकता है। इसी दिशा में जिला प्रशासन ऊना द्वारा अति-गरीब परिवार के इन पात्र बच्चों को मंदिर ट्रस्ट चिंतपूर्णी के माध्यम से “संबल” योजना के अंतर्गत शिक्षा प्राप्त करने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। उन्होंने बताया कि बेसहारा व अनाथ बच्चे, जिन बच्चों के पिता का निधन हो चुका है, जिन बच्चों के पिता उनकी माता को छोड़ चुके हैं, जिन बच्चों के पिता किसी बीमारी की वजह से बिस्तर पर है, जिन बच्चों के पिता मानसिक रूप से ठीक नहीं है व अनाथ या अति-निर्धन परिवारों के बच्चे संबल योजना का लाभ ले सकते हैं।
इस मौके पर एडीसी डॉ अमित कुमार शर्मा, अद्वेता फाउंडेशन से मोनिका सिंह, डॉ गंुरिन्द्र कौर, डॉ गजाला सहित संस्था के अन्य प्रतिनिधि व डॉ हरजिन्द्र सिंह उपस्थित रहे।